Ek Adhurisi Mulaqat Huyi Thi Lyrics From Dahleez [English Translation]

Ek Adhurisi Mulaqat Huyi Thi Lyrics: The song ‘Ek Adhurisi Mulaqat Huyi Thi’ from the Bollywood movie ‘Dahleez’ in the voice of Bhupinder Singh, and Mahendra Kapoor. The song lyrics was given by Hasan Kamal and music is composed by Ravi Shankar Sharma (Ravi). It was released in 1986 on behalf of Saregama.The Music Video Features Jackie Shroff & Meenakshi SeshadriArtist: Bhupinder Singh & Mahendra KapoorLyrics: Hasan KamalComposed: Ravi Shankar Sharma (Ravi)Movie/Album: DahleezLength: 7:04Released: 1986Label: Saregama

Ek Adhurisi Mulaqat Huyi Thi Lyrics

एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
जाने अब उन से मुलाक़ात हो के न हो
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिन
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिन
जाने उस राह पे अब
साथ कभी हो के न हो
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिनकुछ बताया ही नहीं
हाथ छुड़ाने का सबब
कुछ बताया ही नहीं
हाथ छुड़ाने का सबब
फिर न आने का सबब
रूठ के जाने का सबब
पूछते उनसे मगर
बात कभी हो के न होएक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
मेरी ख़ामोश मोहब्बत न समझा कोई
मेरी ख़ामोश मोहब्बत न समझा कोई
दिल यूंही छोड़ गया आग में जलता कोई
दिल पे अब प्यार की बरसात हो के न हो
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिनज़िन्दगी को किसी चहरे
का उजाला न मिला
ज़िन्दगी को किसी चहरे
का उजाला न मिया
थक गए पाँव मगर
कोई साया न मिला
उनकी ज़ुल्फो के ठाले
रात कभी हो के न हो
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसेहमें सोचा था के अब
साथ न छूटेगा कभी
हमें सोचा था के अब
साथ न छूटेगा कभी
ज़िन्दगी भर का भंधन
हैं न टूटेगा कभी
दो घडी भी मगर
अब साथ कभी
अब साथ हो के न हो
जाने उस राह पे अब
साथ कभी हो के न हो
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
जाने अब उन से मुलाक़ात हो के न हो

Ek Adhurisi Mulaqat Huyi Thi Lyrics English Translation

एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
जाने अब उन से मुलाक़ात हो के न हो
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिन
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिन
जाने उस राह पे अब
साथ कभी हो के न हो
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिनकुछ बताया ही नहीं
हाथ छुड़ाने का सबब
कुछ बताया ही नहीं
हाथ छुड़ाने का सबब
फिर न आने का सबब
रूठ के जाने का सबब
पूछते उनसे मगर
बात कभी हो के न होएक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
मेरी ख़ामोश मोहब्बत न समझा कोई
मेरी ख़ामोश मोहब्बत न समझा कोई
दिल यूंही छोड़ गया आग में जलता कोई
दिल पे अब प्यार की बरसात हो के न हो
जिन हसि राह पे हम
साथ चले थे कुछ दिनज़िन्दगी को किसी चहरे
का उजाला न मिला
ज़िन्दगी को किसी चहरे
का उजाला न मिया
थक गए पाँव मगर
कोई साया न मिला
उनकी ज़ुल्फो के ठाले
रात कभी हो के न हो
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसेहमें सोचा था के अब
साथ न छूटेगा कभी
हमें सोचा था के अब
साथ न छूटेगा कभी
ज़िन्दगी भर का भंधन
हैं न टूटेगा कभी
दो घडी भी मगर
अब साथ कभी
अब साथ हो के न हो
जाने उस राह पे अब
साथ कभी हो के न हो
एक अधूरी सी मुलाक़ात हुई थी जिनसे
जाने अब उन से मुलाक़ात हो के न हो

Leave a Comment